Muktibodha kā kāvya aura astitvavāda

Front Cover
Suśīlā Prakāśana, 1979 - Existentialism in literature - 126 pages
0 Reviews
On the Hindi poetry of Gajanan Madhav Muktibodh, 1917-1964, and existentialism; a study.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
1082
Section 2
1084
Section 3
1087

3 other sections not shown

Common terms and phrases

अनुभव अपनी अपने अब अस्तित्व अस्तित्व को अस्तित्ववाद आज आत्मा आधुनिक इन इस इसलिए इसी ईश्वर उनकी उनके उन्हें उस उसका उसकी उसके उसे एक एवं ऐसा ओर कर करता है करते हैं करना करने कवि कविता कहते कहा का कारण काव्य किन्तु किया है किसी की तरह कुछ के प्रति के रूप में के लिए के साथ केवल को कोई क्या क्षण गया है चेतना जब जाता है जिन्दगी जीवन की जो तक तथा तो था थे दर्शन दिया दुनिया दृष्टि द्वारा नयी कविता नहीं है ने पर पृ० प्रकार फिर बात भी मन मनुष्य मलय मानव मुक्तिबोध के मृत्यु में भी मैं यथार्थ यह या रहा है रहे लेकिन वह विचार वे व्यक्ति सकता है सत्य सब समाज सर्व सामने साहित्य से स्थिति हम ही हुआ हुई हुए हूँ है और है कि है है हैं हो होता है होती

Bibliographic information