Padmanābha

Front Cover
Sāhitya Akādemī, 1993 - 91 pages
0 Reviews
On the works of Padmanābha, b. 15th century, Gujarati poet and poet-laureate of Akheraj, the Chohan king of Visalanagar; includes extracts from his works.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Copyright

4 other sections not shown

Common terms and phrases

४ ४ अत्यन्त अथवा अधिक अनेक अपनी अपने इन इस उस उसके उसने उसे एक एवं ऐतिहासिक और कर करती करते थे करते हुए करना करने करने के कवि क्रिया है का का भी काका-दे काव्य काव्य में कास-दे किया किया है किसी की के अनुसार के कारण के लिए के लिये के साथ को को भी गया है गुजरात जपने जल जा जाता था जाने जालोर जी जीवन जैसे जो तक तत्कालीन तथा तो थी दशरथ द्वारा दिया दे नहीं ने पदक्रम पदनाम पदम पर प्रकार प्रबन्ध प्रबंध में प्राप्त प्राय फल बी बीर भारत भारतीय भाषा भी माना में में भी यल यह या ये रस रहा रहे राजपूत राजस्थान रासो रूप से लिया वर्ण वर्णन वाले विजय विना विविध विष्णु वे शत्रु शिव समय समस्त समाज स्थान पर स्वयं स्वीकार सेना सोमनाथ ही हुआ हुई हेतु है कि हैं हो होकर होता है होती होने

Bibliographic information