Uttarādhyayana sūtra: mūla-padyānuvāda-anvayārtha-bhāvārtha-vivecana kathā-pariśishṭa yukta

Front Cover
Samyagjñāna Pracāraka Maṇḍala - Jainism
0 Reviews

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

29 other sections not shown

Common terms and phrases

अथवा अधिक अध्ययन अपने अर्थ आत्मा आदि आहार इन इस प्रकार उत्कृष्ट उत्तरा उत्पन्न उस उसके उसे एक एवं और कर करके करता है करते करना करने करे कर्म कहते हैं कहा का कारण काल किन्तु किया गया है किसी की की अपेक्षा के लिए केशी को कोई क्या गौतम चार चारित्र चाहिए जा जाते जीव जो ज्ञान तक तथा तप तीन तु ते तो त्याग था दो दोनों द्वारा धर्म नहीं नाम ने पर पाता प्रकार के प्राप्त फिर भाग भाव भी मन मुनि में मेद मेर मोक्ष य-और यह है कि यहीं या ये रस रहता रा रूप ले लेता है वह वाला वाले वि वे शरीर श्रमण सकता सब समय साथ साधक साधु सूत्र से स्थान स्थिति स्पर्श स्वाध्याय ही हुआ हुए है और है वह है है हैं हो जाता है होकर होता है होती होते हैं होना होने

Bibliographic information