Sāhitya aura sāhityakāra kā dāyitva

Front Cover
Hindī Sāhitya Sammelana, Prayāga, 1983 - Authors, Hindi - 64 pages
0 Reviews
Transcript of the Purushottamadāsa Ṭaṇḍana birth centennial lecture, delivered at Allahabad, 25th September 1982, on the social responsibilities of writers, with reference to Hindi; includes an appreciation of Vijayadeva Nārāyaṇa Sāhī, 1924-1982, by Keśavacandra Varmā, b. 1926, Hindi writer.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

Common terms and phrases

अगर अपना अपनी अपने अब अलग आगे आज आप इतना इन इलाहाबाद इस इस पर इसलिए उन उनकी उनके उन्होंने उस उसका उसके उसी एक ऐसा कभी कम्युनिस्ट कर करके करता करते करना कवि कविता कह कहते कहा का काम किया किसी की कुछ के लिए के साथ केवल कैसे को कोई क्या गया गये चाहिए चाहे चेतना जब जा जाता जायसी जिस जी जो ढंग तक तब तरह तुलसीदास तो थी थे दिया देश दो दोनों नहीं है नाम ने पर परिवर्तन प्रकार बहुत बात भाषा भी भेरी मनुष्य मान मुझे में मैं मैंने यह यही या ये रवीन्द्रनाथ ठाकुर रहा है रहे हैं रूप में लिख लेकिन लेखक वह वाले विचार विजयी वे सकता सकते सब समय सम्मेलन सामने साहित्य के साहित्यकार साही ने सूरदास से स्तर हम हमारे हिंदी हिन्दी हिन्दी साहित्य ही हुआ हुए हूँ है और है कि है तो हो होता है होते

Bibliographic information