Mīmāṃsādarśanam, Volume 1

Front Cover
Tārā Priṇṭiṅga Varksa, 1984 - Mimamsa
0 Reviews
Basic work, with commentaries, of the Mīmāṃsā school in Indic philosophy.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अत अता अथ अन्य अपि अर्थवाद अर्थात् आदि इत्यर्थ इत्यादि इति है इन इस इस प्रकार इसलिए इसी इह उपनिषद एक एव एवं और कथन कर करना करने कर्तव्य कर्म कहा गया है क्योंकि का कारण किन्तु किया है किसी की के द्वारा के लिए के समान को चेति है जा जो त० वा० तत्र तथा तथापि तदा तस्य तु ते तेन तो दिति देवता दोष धर्म न च नहीं है न्या० सु० नाम ने पर प्रति प्रमाण प्रयोजन प्रामाण्य पुन पूर्व फल ब्राह्मण भवति भा० भा० प्र० भा० वि० भाव भी मन्त्र मय मंत्र मीमांसा यथा यद्यपि यदि यह या युक्त ये वह वा वाक्य विधि विना विरोध विषय वे वेति वेद शब्द श्रुति सति सभी सम्बन्ध सं० स्मृति स्यात् सा सिद्ध सूत्र हि ही हीति हेतु है कि है न है ननु है है हैं होगा होता है होती होने पर होने से

Bibliographic information