Br̥hatī, Volume 4

Front Cover
Madrapurīyaviśvavidyālayaḥ, 1964 - Mimamsa
0 Reviews

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

रयरुसयनेकनिष्यक्ति
996
और्थिके कैब कृतार्थशयन
1009
12 यजतिना शव्यदेवताक्रिर्य 1015
1201

Common terms and phrases

अत अति अथ अनेन अन्यथा अपि अब अल अव अस्थाई इति इति न इति है इत्ते इसे इह तु इह पुन उत उन उस एव एवं कई कथे कम कय करी कर्म कर्मणा कल का कि किन्तु की कुत कृत के केन को जाति जि तत तत्र तत्व तथ तथा तथापि तदा तदेव तब तय तल तव तस्य ताय तेन दोष न च न पुन न हि नत च ननु च नाति नाम नियम नियोग पक्ष पथ पदार्थ पर्व पव पाद पूर्व प्रकरण प्रकृति प्रति प्रतीयते फले भय भवति भवतीति भवतु भविष्यति भी मनु मन्यते मय में मैं यक्ष यत यत्र यथा यदा यदि यद्यपि यब यम यमन यय यया यल यश युक्त लक्षण वा विकृति विधीयते विना विनियोग विशेष व्यय शक्यते शेष स च संबन्ध संभवति संशय सकी सति समय सह सा सात से सोते हानि हूँ हेतु है है न हैं होते

Bibliographic information