Setubandhana: Ḍ. Ena. Rāmana Nāyara abhinandana-grantha : kāvyaśāstra, Hindī sāhitya, bhāshā, śailīvijāna, tulanātmaka sāhitya, samīkshā ādi se sambandhita maulika lekhoṃ kā sandarbha grantha

Front Cover
Sūrya Bhāratī Prakāśana, 1996 - Hindi literature - 495 pages
0 Reviews
Festschrift in honor of N. Raman Nair, Hindi author from Kerala, India; comprises research papers chiefly on his life and works and few on Hindi literature.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अंग्रेजी अधिक अध्ययन अनुवाद अनेक अन्य अपनी अपने अब आचार्य आज आदि आप इन इम इस ईई ईत् उनका उनकी उनके उन्होंने उस उसकी उसके उसे एक एवं कई कर करता है करते करना करने कवि कविता का किया है की कुछ के रूप में के लिए केरल को कोचीन गया है छो जब जा जाता जी जीवन जैसे जो तक तथा तो था थी थे दक्षिण दक्षिण भारत दिया दिल्ली दृष्टि देश दो दोनों द्वारा नहीं नहीं है नाटक ने पकी पर प्रकार प्राप्त बन बह भाया भारत भारतीय भी मन मलयालम मुझे में भी में हिन्दी मेरे मैं यक यब यम यमन यर यल यह यहाँ या रहा है रहे रा राम रामन नायर वन वने वह वा विभाग विश्वविद्यालय वे श्री से हम हिन्दी के ही हुआ हुई हुए है और है कि है है हैं हो होता है होती होने

Bibliographic information