Bhaktiratnāvalī

Front Cover
Caukhambā Surabhāratī Prakāśana, 1975 - Cultus, Hindu - 258 pages
0 Reviews
Verses, with commentary, on devotion (bhakti), with special reference to Krishna and other forms of Vishnu.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अत अता अति अथ अपने अपि आत्मा आदि आप आपकी आपके इति इस उद्धव उनके उन्हें उसे एक एव एवं और कर करता करते हैं करने कर्म कहा का किन्तु की कीर्तन के लिए केवल को क्या क्योंकि जाता है जाते जायते जैसे जो ज्ञान तत् तत्र तथा तब तव तस्य तु ते तेन तेल तो द्वारा धर्म ननु नहीं नाम नारायण ने ने भगवान पर परम परीक्षित पुन पुरुष प्रकार प्रति प्राप्त भक्त भक्ति भगवत भगवति भगवती भगवान के भगवान श्रीकृष्ण भवति भाव भी मन मम में मेरी मेरे मैं मोक्ष यत् यत्र यथा यदा यदि यम यस्य स यह या ये राजा लोग वह वा विदेह विना विष्णु वे श्रवण संसार सती सदा सब समय समान सर्व सा से हरि हि ही हुए हूँ हे है है और है कि हैं हो होता

Bibliographic information