Śivadeva saṃskārita Śrī Rudravarṇa Mahāvihāra sthita tālapatra-abhilekha

Front Cover
2524 Buddha Jayantī Samāroha Samiti, 1980 - History - 31 pages
0 Reviews
Inscriptions written on palm-leaves preserved in the Rudravarṇa Mahāvihāra, Buddhist temple and monastery in Patān, Nepal.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

Common terms and phrases

०० ००० १० १७ २ई अत अत्रार्थ अध्ययन अन अब अभिलेख अल इतिहास उस कमाता कया कर्ष क्षेत्र रोव कि की कुलपुत्र के को कोन खेत्र खेरि गृहीत चैत्र जा जाब जि जित जुया जुल तत तत् तत्काल तर तस्य मूल तालपत्र तो दक्षिणा दु दृष्ट धारण धारणकेन नि ने नेपाल पभिमत परि परिचय पश्चिम प्र प्रदेशे प्रधान पिण्ड पुत्र पुराण पुस्तिका बज बम्बई बर बल बागमती बी बुद्ध बो-ब भवति भा भारी भारोकीय भारों भावो भिक्षु भी भूने भूसे महा मिति मैं यत यत्न यथा यम यल यह रा राजिक ले वयन वस्तु व्य विहार वैशाख शुक्ल श्री ललित कमाया शाक्य शुक्ल दिवा सका सकासात सब सम्वत् सहयोग सं संघ संस स्थित स्वकीयं स्वभूज्यमानकं स्वाधीन सा सुवर्ण है म है श्री है है हैं हो

Bibliographic information