Kahānī kī varṇamālā: Maī 1982 meṃ Amarakaṇṭaka meṃ āyojita śivira meṃ se

Front Cover
Madhya Pradeśa Hindī Sāhitya Sammelana, 1982 - Short stories, Hindi - 112 pages
0 Reviews
On Hindi short story; proceedings of a workshop organized by the Madhya Pradeśa Hindī Sāhitya Sammelana, Amarkantak, Madhya Pradesh, 1982.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

5 other sections not shown

Common terms and phrases

अनुभव अपनी अपने अब आज आप इन इस उनकी उस उसका उसकी उसके उसे एक ऐसा कई कर करता करती है करते करना करने कहानियों कहानी के कहानी में का काम कारण किया है किसी की कुछ के लिए के साथ को कोई क्या गई गया है चाहिए जब जरूरी जा जाता जाती है जाने जीवन जैसे तक तथा तरह था था है थी दिया दृष्टि नही नहीं है नाम ने पर परसाई प्रति प्रेमचंद प्रेमचन्द फिर बहुत बात बाद भी मुझे मे में मैं यथार्थ यहां या रचना रचनाकार रहा है रही रहे लेखक लेखन लोग लोगों वाली वे शिविर सकता है सकते समकालीन समय समाज सामाजिक साहित्य से हम हमारे हमें हर हिन्दी ही हुआ हुई हुए हूं है और है कि है जो है तो है यह है या है लेकिन है वह है है हैं हो होता है होता है है होती होते होने

Bibliographic information