Ajeya, kucha raṅga, kucha rāga

Front Cover
Prabhāta Prakāśana, 1999 - Literary Criticism - 98 pages
0 Reviews
Study of short stories, novels, and satire of Sachchidanand Hiranand Vatsyayan, 1911-1987, Hindi author in the context of modern Hindi literature.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अजेय के अति अनुभव अनेक अपनी अपने अब अभी अमृतलाल नागर आज आदि आधुनिक इन इम इस इसके उगे उन उनकी उनके उन्हें उन्होंने उपन्यास उपन्यास के उपन्यासों उल्लेख उस उसका उसकी उसके उसमें उसे ऐसी ऐसे कई कर करता है करते हैं करना करने कहते कहानियों कहानी कहानी के का किया है किसी की कुछ के रूप में के लिए को गई गया है छो जब जा जाति जिस जीवन जीवनी जैसे जो तक तथा तो था थी थे द्वारा दिया दृष्टि दो नई नहीं है निराला ने पर परसाई परी पहले प्रकार फिर बद बहुत भारत भी मुझे मैं यक्ष यथार्थ यम यर यह यह है कि यहीं या रहा है रा लिया लेखक लेखकों लेखन वर्मा वल वह व्य-य विचार विषय वे शेखर समाज स्थिति स्वयं साहित्य से हम हमें हिदी हिंदी ही हुआ है हुई है और है कि हो होता है होती होते होने

Bibliographic information