Akshara-kathā

Front Cover
Prakāśana Vibhāga, Sūcanā aura Prasāraṇa Mantrālaya, Bhārata Sarakāra, 1972 - Writing - 278 pages
0 Reviews

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अक्षर अक्षरों अधिक अध्ययन अपनी अपने अब अशोक अस्तित्व आरंभ इन इनमें इस इस लिपि इसके इसलिए इसी ई० पू० ईरान उत्तरी उसने ओर और कर करने का काल किन्तु किसी की की लिपि कुछ के आधार पर के बारे में के लिए के साथ केवल को कोई गई गया है गये चीन चीनी जा जाता जावा जो तक तथा तो था थी थे दिया दो ने पर परन्तु पहले प्रकार प्राचीन प्राप्त बहुत भारत भारतीय भाषा के भाषाओं भी मय मिलता है मिलते हैं मिले में भी यह या यूनानी यूनानी लिपि यूरोप ये रहा रा राजा रूप रोमन लिपि लगभग लिपि के लिपि में लिपियों लिया लेख लेखों में वह शताब्दी के शब्द संकेत संकेतों संस्कृत सकता सबसे सभी समय सिंधु से सेमेटिक स्थान हम ही हुआ है हुई हुए है और है कि है है हैं हो होता है

Bibliographic information