Keśavaprasāda Pāṭhaka, vyaktitva evaṃ kr̥titva

Front Cover
Satyendra Prakāśana, 1984 - Poets, Hindi - 158 pages
0 Reviews
Life and works of Keśavaprasāda Pātḥaka, 1906-1956, Hindi poet from the Bundelkhand region in central India.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

7 other sections not shown

Common terms and phrases

अधिक अन्य अपना अपनी अपने अब आज इन इस इसी उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उमर खैयाम उर्दू उस उसे एक एवं और कभी कर करते थे करने कवि कविता कहा कहीं का का अनुवाद काव्य किन्तु किया किसी की कुछ के लिए के साथ केशव पाठक की को कोई कौन क्या गई गया गये घर जब जबलपुर जा जाता जिस जी के जी ने जीवन जो तक तथा तब तुम तो था थी थे दिन दिया दे दो नहीं है निराला ने पं० पर पाठक जी पुस्तक पृ० प्रकार प्रकाशित प्रथम प्रसाद प्रेमा फारसी फिर बहुत बाद भर भी मधु मन मुझे में मेरा मेरे मैं यदि यह यहाँ या ये रहे रामानुज रुबाइयों रूप लिखा लिये ले वह वहीं वे शराब श्री श्रीवास्तव सब सभी समय साहित्य से स्वयं हम हिन्दी ही हुआ हुई हुए हूँ है कि हैं हो होगा होता

Bibliographic information