Trilocana, kiṃvadantī purusha

Front Cover
Śrī Prakāśana, 1998 - 760 pages
0 Reviews
Contributed articles by various contemporaries of Trilocana, b. 1917, Hindi author chiefly on the life and poetic works of the latter; includes transcript of interviews.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अपनी अपने अब आज आप इन इस इसी उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस उसकी उसके उसे एक ऐसा कई कभी कम कर करता है करते हैं करने कवि कविता कविता में कविताएँ कविताओं कवियों कहा कहीं का काम कारण काव्य किया है किसी की की कविता कुछ के लिए के साथ को कोई क्या गई गया गये जब जा जाता है जाती जाते जिस जीवन के जैसे जो तक तब तुलसीदास तो त्रिलोचन जी था थी थे दिन दिया देखा दो नहीं है नाम नामवर सिंह निराला ने पर पहले प्रकृति फिर बहुत बात बाद बार भारत भाषा भी मन मुझे में में भी मेरे मैं मैंने यह यहाँ या ये रचना रहा है रही रूप में लेकिन वह वाले वे शब्द सकता है सब समय सिंह से हम हिन्दी ही हुआ हुई हुए हूँ है और है कि है है हैं हो होता है होती होते

Bibliographic information