(Pāndeya Becana Śarmā ʻUgraʾ): Kahānīkāra,upanyāsakāra

Front Cover
R̥shabhacaraṇa Jaina, 1974 - 250 pages
0 Reviews

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Copyright

8 other sections not shown

Common terms and phrases

अधिक अनेक अपना अपनी अपने आदि इन इस इस प्रकार इसका इसमें इसी उग्र उनका उनकी उनके उनमें उन्हे उपन्यास उपन्यासकार उसका उसकी उसने उसमें उससे उसी उसे एक एवं ओर कथा कथाकार कथानक कर करता है करता है है करती करते हैं करना करने कहानियों में कहानी का किन्तु किया है किसी की कुछ के प्रति के लिए को कोई गई गया है घटनाओं जा जाता है जाती जीवन तक तथा तो था दिन दिया दिल्ली दृष्टिकोण देता है देते हैं देश द्वारा नहीं नहीं है नाम ने पर परन्तु पात्रों के प्रकृतवादी प्रधान प्रयोग प्रेमचन्द बम्बई भारतीय भाषा भी मिलता है में भी मैं यथार्थ यथार्थवादी यह या ये रचनाओं रूप में वाले वे व्यक्तित्व शैली में सनक समस्या समाज के साथ सामाजिक साहित्य से हिन्दी ही हुई हुए है उसके है और है कथाकार है कि है वे है है हो होता है होती होने होली

Bibliographic information