Ādhunika Hindī-Jaina sāhitya

Front Cover
Bhāratīya Kalā Prakāśana, Jan 1, 2000 - Hindi literature - 534 pages
0 Reviews
Study of contemporary Jaina Hindi literature.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Related books

Common terms and phrases

अत अत्यन्त अधिक अनेक अपनी अपने आदि आधुनिक इन इम इस इसमें इसी उगे उनकी उनके उन्होंने उपन्यास उस उसके उसे एक एव एवं कथा कम कर करता करती करते करने कवि ने का काव्य किया गया किया है किसी की के कारण के लिए केवल को गई गद्य गया है गुजराती चरित्र जा जाता है जाती जी जीवन जीवनी जैन धर्म जैसे जो डा० तक तथा तो था थी थे दर्शन दिया दृष्टि धर्म के नहीं नाटक निबंध पं पति पर प्रकार प्राचीन प्राप्त फिर भगवान भाया भी मन महाकाव्य महावीर महिय में में भी यम यर यल यह या रचना रबी रस रहता रहा रा राजा रूप रूप में रोचक लेकिन लेखक वन वर्णन वह विचार विशेष विषय वे शैली में श्री संस्कृत साथ साहित्य सुन्दर से हिन्दी जैन ही हुआ हुई हुए है और है कि हैं हो होकर होता है होती होने

Bibliographic information