Pāńca lambī kahāniyāṃ

Front Cover
Sāvitrī Prakāśana, 2005 - Hindi fiction - 196 pages
0 Reviews
Five stories based on rural life in India.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Related books

Contents

रमई राम की दो देटियंत्
57
मिस जाली का था पकी
135
राक्षस
161
Copyright

Common terms and phrases

अपनी अपने अब इस उनके उन्हें उस उसके उसने उसी उसे एक और कम कय कर करने कल कहा कहीं का काम कि की की तरह के बाद के लिए के साथ को क्रिया खाना गई गए गयी गये गिलास चल चाय चाहिए जब जा जाई जाए जाएगा जाता जाती जाने जाप जाय जाया जी जैसे जो तक तपु तब तरफ तुम तू तो था थी थे दिन दिया दे देर दो नहीं नहीं है नाहीं ने पता पर परधान पानी पास फिर बया बहुत बात बार बाली भी भी नहीं मन मनोहर माई मुझे में मेरे मैं मैंने यम यया यर यह यही यहीं या रख रमई रह रहा है रही रहे रात राम रेशमा लगा लगी लगे लिया ले लेकिन लोग लोगों विना वे सकता सकती सब समय सुखदेव से हजार हम हाथ ही हीं हुआ हुई हुए हूँ हेमंत हैं हो होगा होगी होता होती होने

Bibliographic information