Ādivāsī krāntidūta

Front Cover
Pallava Prakāśana, 1992 - Revolutionaries - 40 pages
0 Reviews
Plays based on the role of the revolutionists in the Indian freedom struggle.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

तान बाबा ताना तान
29
जोरिया भगत
46
संन्यासी बीरमम और उसके बाद
71
Copyright

Common terms and phrases

अपनी अपने अब अंग्रेज अंग्रेजों आदमी आदि आदिवासी आप इस उनकी उनके उन्हें उस उसका उसके उसे एक ओझा और कयों कर करता है करते करने करेंगे कहते क्या का काम किया किसी की कुछ के लिए को कोई गया गयी गांव में गांवों गुरु गोविन्द घर घोषाल ताना जमींदार जरूर जा जात्रा जावा जैसिंह जो जोरिया ठीक तक तब तरह ताना ० तुम तू तेवला तो था थाने ० थानेदार थी थे दरोगा दिया दे दो नहीं नहीं है ना ने पर पहले पादरी पुरुष पुलिस फिर बहुत बात बाद बीरसा बीरसा को बेगार बोल भगवान भी मत मतलब मुखिया में मैं यह यहां यहीं ये रहा रहे राजा रांची रूपा लगान ले लोग लोगों को वह वहीं वे शिव सब सर सरकार स्वर साथ साहब सिपाही सीन से हजूर हम हमारा हमारे हमें हर हां ही हुआ हुए हूँ है कि हैं हो होगा होता

Bibliographic information