Reṇu se bheṇṭa: Phaṇīśvaranātha Reṇu se bheṇṭavārttāoṃ kā saṅkalana

Front Cover
Vāṇī Prakāśana, 1987 - Authors, Hindi - 128 pages
0 Reviews
Transcript of interviews with Phaṇīśvaranātha Reṇu, Hindi writer, about his life and career as a writer.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अपनी अपने अब अभी आँचल आज आदमी आन्दोलन आप आपने इन इस इसी उनके उन्होंने उस उसके उसे ऐसा ओर और कई कभी कयों कर करते करना करने कहा कहानी का काम किया किसी की की बात कुछ के बाद के लिए के साथ को कोई क्या गई गए गाँव घर चाहिए चुनाव जब जमीन जा जाता है जेल जो तक तब तरह तीसरी कसम तो था थी थे दिन दिया दी दो धान नहीं नहीं है नाम ने पटना पर परती पहले पार्टी पूर्णिया फिर बहुत बार बिहार भारत भी मुझे में में भी मेरा मेरी मेरे मैं मैंने यह यहाँ या ये रहा है रहे हैं राजनीति रूप रेणु रेणु जी लगता लगा लिया ले लेकर लेकिन लेखक लोग वह वहाँ वाले वे शहर शुरू सकता सब समय से हम हर ही हुआ हुई हुए हूँ है कि हैं हो गया होगा होता है होती होने

Bibliographic information