Bihārī aura unakī Satasaī

Front Cover
Pāṭhaka Prakāśana, 1988 - Poetry - 164 pages
0 Reviews
Study of Satasaī, 17th century verse work by Kavi Vihārī Lāla, Hindi poet; includes original text in Braj with Hindi prose translation.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अत अति अधिक अनेक अन्य अपनी अपने अब अर्थात् इन इस इसी उदाहरण उस उसकी उसके उसे एक एवं ओर कया कर करके करती करते करने करि कवि कहती कहा का काव्य किया किया गया किया है किसी की कुछ के कारण के लिए को कोई क्योंकि खरी गई गया है गयी चित्र जा जाता जाती है जाने जो तथा तन तुम तू तो दिया दृष्टि देख देखकर दोनों दोहे दोहों द्वारा नमक नयन नहीं नायिका के ने नैन पर प्रकार प्रस्तुत प्रियतम प्रेम फिर बात बिहारी बिहारी की बिहारी ने भी मन मनु मुख में मेरे मैं यह ये रस रहा रही रहीं है रहे रूप में रूपी लखि लगी लाल वह वाली वाले विरह वे श्रीकृष्ण सकता सखी सब सभी समय सी से हाथ ही हुआ हुई हुए हूँ हृदय हे है और है कि है है हैं हो होकर होता है होती होने

Bibliographic information