Rāmakāvya aura Tulasī: sāṃskr̥tika sandarbha meṃ

Front Cover
Neśanala Pabliśiṅga Hāusa, 1977 - Hindi poetry - 126 pages
0 Reviews
Articles on the Hindi poetry about Rama, Hindu deity, with special reference to the work of the saint poet Tulasīdāsa, 1532-1623.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Related books

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

3 other sections not shown

Common terms and phrases

अति अथवा अधिक अनेक अपनी अपने अयोध्या आदि आरंभ इसी इसीलिए उत्तरकाण्ड उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उसे एक ओर कई कथा कर करता करते हुए करते हैं करना करने कवि कवितावली कहते कहा का किया है की के लिए के साथ केवल को गई गए गया है चाहते जब जा जाता है जाती जाते हैं जीवन जैसे जो तक तथा तुलसी तुलसी की तुलसी ने तुलसीदास तो था थी थे दशरथ दिया दृश्य दृष्टि देते दोहा धर्म नाम ने पद पर पृ० प्रति प्रसंग बालकाण्ड भक्ति भरत भी भूमि मध्यकाल मध्यकालीन मन महाभारत मानस में में ही मैं यह यहां रचना रचनाओं रहे राम के रामकथा रामकाव्य रामचरितमानस रामानन्द रामायण रावण रूप में लक्ष्मण लगभग लेकर वर्णन वह वे शिव संकेत सब समय समाज सम्पूर्ण सहज सामाजिक सीता से स्थिति स्वयं हनुमान हिन्दी हुआ हुई है और है कि हो होता है होती

Bibliographic information