Bhāratīya sādhanā aura sūra-sāhitya: Prathama bāra

Front Cover
Acārya Śukla Sādhanā-Sadana, 1953 - Hindi literature - 461 pages
0 Reviews
Study of the works of Sūradāsa, 1483?-1563?, Braj and Hindi devotional poet.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अत अध्याय अनेक अन्य अपनी अपने आचार्य आदि इन इस इस प्रकार इसी उनके उपनिषद उस उसके उसे एक एवं कंस कई कबीर कर करते हैं करना करने कहा का कारण किया है किसी की कुछ कृष्ण के लिए के लिये के साथ को कोई क्या गई गया है गये गोपियों जब जा जाता है जाती जाते जैसे जो ज्ञान तक तथा तो था थी थे दिया दो दोनों द्वारा धर्म नहीं नहीं है ना०प्र०स० नाम नीचे ने पद पर परन्तु परम पुराण पूर पृष्ट प्रकट प्रभु प्राप्त प्रेम बन भक्त भक्ति भगवान भाव भी मन मुरली में में भी मैं यम यह यहीं या ये रस रहे राधा रूप रूप में रूप से लीला वह वाले विष्णु वे वेद वैष्णव शिव श्रीकृष्ण सकता सब समय सूर सूरदास सूरसागर से स्थान हम हरि ही हुआ हुई हुए है और है कि हैं हो होता है होती होने

Bibliographic information