Bhāratīya kāvyaśāstra ke naye āyāma: Saṃskr̥ta-Hindī-Marāṭhī ke sandarbha meṃ, Volume 2

Front Cover
Penamaina Pabliśarsa, 1992 - Literary Criticism
0 Reviews
Study of Indic poetics with special reference to Hindi, Marathi, and Sanskrit literature.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
3
Section 2
49
Section 3
59
Copyright

14 other sections not shown

Common terms and phrases

अत अथवा अधिक अध्ययन अनिवार्य अनेक अन्य अपने अपर अभिव्यक्ति अर्थ अर्थालंकार अलंकार अलंकारों का आदि आधुनिक इन इनकी इनके इन्होंने इस पवार इसके इसी उसके उसे एक ओज औचित्य कतिपय कर करके करते करना करने के कल्पना कवि का भी काना कारण काव्य के किया गया किया है किसी की की अपेक्षा की है के रुप के लिए केवल को को भी क्योंकि गया है गुण गुणों गुल गोविल जो डा० तक तत्व तत्व की तत्वों तथा तो था दिया द्वारा नहीं है निरुपण निहित ने भी पर परन्तु पाश्चात्य पृ० पृथक प्रकार प्रतिपादन प्रयोग प्रस्तुत भारतीय भाव भाषा में यम यह या रचना रस रुप ने लदे वक्रता वर्ग वस्तु वह विवेचन विशिष्ट विशेष विषय वे व्यापक शब्द श्लेष संस्कृत सकता है समय सहृदय सिद्धान्त से सो सौन्दर्य स्थान स्पष्ट स्वनि स्वरुप स्वीकार हिन्दी हुए है और है कि है तो हैं होता है होति होती होते

Bibliographic information