Kavikarma aura cintana

Front Cover
Neśanala Pabliśiṅga Hāusa, 1986 - Indic poetry - 67 pages
0 Reviews
Reflections on the nature of poetic creation, with special reference to classical Indic poetics.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अनुभव अपनी अपने अब अर्थ आज इन इन्द्र इस इसी उस उसका उसकी उसके उसी उसे ऋग्वेद एक ऐतिहासिक ऐसा और करता है करती करते हैं करना करने कल्पना कवि कवि और चिन्तक कहा का काल कालिदास काव्य किया किसी की की ओर कुछ के रूप में के लिए केवल को कोई क्या क्योंकि गया है चिन्तन चेतना जा जाता है जिस जिसे जीवन जैसे जो ज्ञान तक तो था दर्शन दार्शनिक दिया दूसरे दोनों द्वारा नयी नये नहीं है ने पर परम्परा पश्चिम पहले पाश्चात्य प्रकार प्रक्रिया प्रश्न फिर बात भारत भारतीय भाषा भी मनुष्य मात्र मानव मूल में ही यदि यह यहाँ या युग ये रहा है रहे वर्तमान वस्तु वह वाणी विचार वे वेदान्त संस्कृति सकता है सत्य सब सभी साथ से सोम स्वयं हम हमारी हमारे हमें ही हुआ हुई हुए हूँ है और है कि हैं हो कर होता है होती होते होने होमर

Bibliographic information