Bairina bam̐suriyā

Front Cover
Prācya Prakāśana, 1968 - 142 pages
0 Reviews

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

7 other sections not shown

Common terms and phrases

अइसन अपना अब आँखि आइल आके आगे आज आपन आवत उनकर उनकरा उनका एक एगो एह ओकर ओकरा ओके ओह ओही कर करत करे कवनो कहलन कहि कहीं का ओर काम काहे कि की कुकुर कुछ के केहू खातिर गइल रहे गइली गबन गमन गाँव गाडी गोड़ घर घरे चनरावती चम्पा चलि जइसे जब जवन जा जाई जात जाति जिनिगी जी जीव झरिया ठाकुर तबले तोताराम दिन दे देई देखि के देर देहि धरती नइखे ना नीयर पर पानी पोखरा बडा बन बना बा बाकिर बाड़न बाति बानी बाबू बिरजू बीयर बुझाइल बेर भइल भगवान भर भी भूरी भोजपुरी मदन मन माई मुँह में मेहरारू रतन रहल रहलन स रहली रहे रहे है राजन राति राधा रुपया रे लइका लखिया लागल ले लोग वा वाला सब साहेब सिंह सीता से सोना हम हमरा हमार हाथ है हो गइल होई होखे होत

Bibliographic information