Saṃskr̥ta nāṭya prastuti paksha: Rājasthāna sandarbha

Front Cover
Javāhara Kalā Kendra evaṃ Grantha Vikāsa, 2005 - Sanskrit drama - 117 pages
0 Reviews
Sanskrit drama and theater with special reference to Rajasthan, India.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
13
Section 2
80
Section 3
80

4 other sections not shown

Common terms and phrases

अनेक अपने अब अबी अभिनय आकाशवाणी आचार्य आज आदि इन इस इसके उदयपुर उनके उन्होंने उस उसके एक एवं और कर करते करने कहा का कालिदास की कुछ के बाद के लिए के समय को गई गया है गये चाहिए जयपुर जयपुर के जा जाते जाने जाय जिया गया जिसमें जी जो तक तभी तो था थी थे दर्शकों द्वारा दिया दिल्ली दी दो नव नहीं नाटक के नादय नाप नाम नाय नास निर्देशन ने पर परम्परा प्रकार प्रस्तुति प्राचीन प्राप्त पुल बना बी बीकानेर भट्ट भरत भाग भारत भी मंच मंचन में में भी में संस्कृत यम यल यस यह यहाँ या रचना रहा रही रहे रंगमंच राजस्थान राजा रामसिंह लय लिखा लिखे लिया लिये वर्ष वाले विद्वान विभाग विश्वविद्यालय विशेष शर्मा श्री शिया संगीत संस्कृत नाटक संस्तुत स्वयं से हिन्दी ही हुआ हुई हुए हुम है है वि हैं हो होता है होने

Bibliographic information