Nayī kavitā kī lambī kavitāyeṃ

Front Cover
Rādhā Pablikeśansa, Jan 1, 1993 - Poetry - 320 pages
0 Reviews
Study of 20th century Hindi extended narrative poetry.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अंधेरे अज्ञेय अधिक अनेक अपनी अपने अर्थ आज आदि आधुनिक इन कविताओं इस प्रकार इसके इसी उसकी उसके उसे एक एवं ओर कर करता है करते करना करने कवि कवि के कविता की कविता में कवियों का का प्रयोग काव्य किया गया है किसी की लम्बी कुछ के अनुसार के रूप में के लिए को कोई गया है गयी गये चित्र छोटी जा सकता है जाता है जीवन जो डा० तक तथा तो था दिखाई दिया दृष्टि से देश द्वारा धर्मवीर भारती नयी कविता नये नरेश मेहता नहीं है निराला ने पर पृ पृ० प्रकृति प्रतीक प्रस्तुत बन बहुत बिम्ब भाषा भी मानव मिथक मुक्तिबोध में भी यथार्थ यह या ये रह रहा है राम लम्बी कविताओं में लेकिन वह वीणा व्यक्ति शब्द सभी समय समस्त समाज सामाजिक साहित्य से स्पष्ट ही हुआ है हुई हुए है और है कि है जो है है हैं हो होता है होती होते

Bibliographic information