Mahābhāṣya ke antargata vārtikoṃ kā ālocanātmaka adhyayana

Front Cover
Paramamitra Prakāśana, 2002 - Foreign Language Study - 383 pages
0 Reviews
Study of the supplementary rules on the Mahābhāṣya of Pata˝jali, commentary on Aṣṭādhyāyī of Pāṇini, work on Sanskrit grammar.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
1
Section 2
14
Section 3
26
Copyright

13 other sections not shown

Common terms and phrases

अत अथवा अधिक अन्य अनेक अपने अर्थ में आदि इति इन इम इस इसलिए इसी उगे उनके उल्लेख उस एक ऐसे कई कभी कर करण करते है करने कल कहा कहीं क्रिया का कात्यायन कार्तिक किन्तु किया है किसी की कूछ के अनुसार के आधार यर के कारण के रूप में के लिए केवल को खुद गया है गुण जता जब जा जाता है जाति जाती जाते जान जैसे जो तरह तो था थे द्वारा दिया दृष्टि नहीं है नहीं होता ने पतंजलि पर परन्तु परिभाषा प्रत्यय प्रयोग पाणिनि पाणिनि के भाव भाष्यकार ने भेद मत महाभाष्य माना है में भी यक्ष यम यल यह यहाँ या ये रा वक्ति वर्तिककार वल वह व्याकरण विचार विशेष वे शब्द का शब्दों संभव संस्कृत साथ सूर से ही हुए है और है कि है तो हैं हो होगा होता है होती होते होने के

Bibliographic information