Padmāvata navamūlyāṅkana

Front Cover
Pāṇḍulipi Prakāśana, 1975 - 144 pages
0 Reviews
Critical approach for the evaluation of the Padmāvata, 16th century mystic epic, by Malik Muhammad Jayasi, fl. 1540.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

3 other sections not shown

Common terms and phrases

अधिक अपनी अपने अलंकार आचार्य आदि इन इस इस प्रकार इसी उनके उस उसका उसकी उसके उसे एक एवं कथा कर करता है करने कवि कहते हैं कहा का का वर्णन कारण काव्य किया है है किसी की है कुछ के लिए के साथ को कोई गई गए गया है जब जहां जाती जाने जायसी ने जैसे जो तक तथा तरह तो था थे दिखाई दिया दोनों द्वारा नहीं नहीं है नाम पआवत पथावती पद/रावत पर प्रकृति प्रतीक प्रयोग प्रेम की फारसी बहुत बात भारतीय भी मन महाकाव्य मिलता है मैं यह या रत्नसेन रत्नसेन के रहा रा राजा को रूप में वह वही वहीं विरह वे सकता है सब सभी समान साहित्य सूर्य से सौन्दर्य हम हिन्दी साहित्य ही हीरामन हुआ हुई है और है कि है जायसी है जो है लेकिन है है हैं हो जाता है होइ होकर होता है होती

Bibliographic information