Gaṇeśaśaṅkara Vidyārthī racanāvalī: Jela ḍāyarī, jela jīvana ke saṃsmaraṇa, patra, maulika kahānī, evaṃ anūdita upanyāsa

Front Cover
Anāmikā Pabliśarsa eṇḍa Ḍisṭrībyūṭarsa, 2004 - India
0 Reviews
Complete works of an Indian freedom fighter and Hindi journalist; articles chiefly on the Indian freedom struggle against British rule during 1911-1930; briefly includes transcript of correspondences and short stories; most articles have previously been published in the journal Pratāpa.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
3
Section 2
4
Section 3
5

30 other sections not shown

Common terms and phrases

अंत अधिक अपना अपनी अपने अब अभी आदमी इन इस समय इसलिए इसी उन उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस उसका उसकी उसके उसने उससे उसी उसे ऊपर एक ऐसा ऐसे और कर करता करते करने कहा कहीं का कानपुर काम कारण कि किसी की कुछ कुल के लिए के साथ को क्रिया गई गए जब जा जाए जाता जाती जाते जाने जाप जिस जी जेल जो तक तब तरह तुम तो था थी थीं थे दिए दिन दिया दे देखा दो दोनों नहीं नाम नीचे ने पड़ता पर परंतु पहले पहा पास प्रकार प्रजातंत्र फिर बया बहुत बात बाते बाद बाहर भी भीतर मुझे में मेरे मैं मैंने यदि यब यह यही यहीं या ये रही रहे राजा रूप लखनऊ लगा लिया लोग लोगों वाले वि वे सकता सब सय सामने साहब सिर से हम हाथ ही हु हुआ हुई हुए हूँ है हैं होता होती होने

Bibliographic information