Pārasamaṇi: arthāta, pārasabhāgakā saṃśodhita saṃskaraṇa

Front Cover
Ānanda-Kuṭīra-Ṭrasṭa, 1962 - Islamic ethics - 936 pages
0 Reviews

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अत अत्यन्त अधिक अपनी अपने इस प्रकार इसका इसके इसलिये इससे इसी इसे उत्पन्न उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस उसका उसकी उसके उससे उसी उसे एक ऐसा ऐसी ऐसे कभी कर करके करता है करते करना करने करे कहते कहा है कि का कि यहि किन्तु किया किसी की कुछ के लिये को कोई क्योंकि चाहिये जब जाता है जाती जाय जिस जीव जैसे जो तथा तब तुम था थे दिया द्वारा धन नहीं है ने ने कहा पदार्थ पर परलोक पहले पाप पुरुष प्रभु प्राप्त फिर बहुत बात भगवत भगवान भजन भय भी मन मनुष्य मलय महापुरुष मुझे में में ही मैं यह है कि यहि यही या ये रहता है रहे वह विचार वे शरीर सन्त सब सभी समय समान साथ सुख से स्वभाव ही है हुआ हुए हूँ हृदय है और है तो है वह है है हैं हो जाता है होता है होती होते होने

Bibliographic information