Urdu Theatre Kal Aur Aaj

Front Cover
Rajkamal Prakashan Pvt Ltd, 2006 - Theater - 211 pages
0 Reviews
On 20th century Urdu drama and theater; papers presented at Simīnār Urdū Theaṭar, organized by the Urdū Akādmī, Dillī and National School of Drama at New Delhi in 1993.
  

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
5
Section 2
9
Section 3
12
Section 4
52
Section 5
52
Section 6
54
Section 7
91
Section 8
103
Section 9
111
Section 10
140
Section 11
140
Section 12
2003

Common terms and phrases

अंत अकादमी अगर अपनी अपने अफसर अब अलवर अली अहमद आप इन इने इस इसका इसलिए उई उन उनकी उनके उन्होंने उमा उर्दू उर्दू थिएटर उर्दू में उर्फ उस उसकी उसके उसको उसमें उसे एक कम्पनी कर करते हैं कराची कलकत्ता का की कुछ के के लिए को कोलकाता क्रिया गई गए गया गुप जब जा जाए जाता जिन्दगी जी जुबान जो डामा तक तरह तो तोर था थिएटर थिएटर की थी थे दिएटर दिएहिकल दिया दिल्ली देहली दो धिएटर नहीं है नाटक ने नेशनल पंजाब पर पारसी पेश बने बम्बई बहुत बाद भी मिटर मुझे में मैं मो यम यया यर यह यहीं ये रहा है रहे हैं लखनऊ लिखा लिखे लेकिन लोग लोगों वह वहुत सकता सब सवाल साथ साल साहब सिर्फ से स्कूल हम हमारी हसन हिन्दी हिन्दुस्तानी ही हुआ हुई हुए हुसेन है और है कि है तो हैं हैदराबाद हो होगा होता होती

Bibliographic information