Saṅgīta, nāṭya paramparā aura Bundelakhaṇḍa

Front Cover
Viśvavidyālaya Prakāśana, 2006 - Performing Arts - 264 pages
0 Reviews
Study on Sanskrit dramatic traditions and music of Bundelkhand, India.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
2
Section 2
5
Section 3
11

12 other sections not shown

Common terms and phrases

अनेक अन्य अपने अभिनय आदि इन इस इसके इसमें उनके उल्लेख मिलता है उस समय ऋग्वेद एक एवं और कर करता करते करने कलाओं का उल्लेख भी का उल्लेख मिलता काल में की कुछ कृष्ण के अनुसार के लिए के साथ को क्या गणेश गया है गये गायन गीत जबलपुर जाता था जाता है जाती जो ट्टष्ठ८ तथा तो था थी थे दिया दृश्य देखने दो दोनों द्वारा नहीं नाटक नाट्य नाट्यशास्त्र नाम नामक नृत्य ने पर पार्वती पुराण प्रकार प्रतिमा प्रयोग प्राप्त बाद बी बुंदेलखण्ड भरत भाग भारत भारतीय भी मंदिर मध्य महाभारत मुद्रा मुद्रा में में में संगीत यह या राजा राज्य रामायण रूप लगभग वर्णन वहीं वादन वाद्य वाले विभिन्न विष्णु वीणा वेद शताब्दी शती शिक्षा शिव संगीत का समाज सागर सामवेद साहित्य से हाथ ही हुआ हुई हुये हे हेतु है कि हैं हो होता है होती होते होने

Bibliographic information