Dhvanyālokaḥ: Dīpaśikhāṭīkāsahitaḥ

Front Cover
Viśvavidyālaya Prakāśana, 1983 - Literary Criticism - 436 pages
0 Reviews
Classical treatise, with commentary, on Sanskrit poetics.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अत अथवा अनु० अन्य अपने अब अर्थ के अर्थात आत्मा आदि इति इत्यर्थ इत्यादि इस प्रकार उदाहरण उन उस उसके एक एव एवं और कर करता करने कवि कहते कहा का कावी काव्य कि किन्तु किया किसी की के लिए के विषय के साथ केवल को कोई क्योंकि चाहिए जा जाता है जैसे जो तत्र तथा तदेव तस्य तु ते तेन तो दो दोनों द्वारा ध्व० ध्वनि ध्वनि का न तु नहीं नहीं है नाम ने पद पर पर भी पुन प्रकाशम प्रकाशित प्रति प्रतीति प्रधान बी० शि० भवति भाव भी भेद में यत्र यथा यदि यस्य यह यहाँ या ये रस रसम रूप से लक्षण वस्तु वह वा वाक्य वाले विरोधी वे शब्द शेष श्लेष सकता सति सभी सा स्वरूप हि ही हुआ हुए है और है कि है है हैं हो होता है होती होते होने पर

Bibliographic information