Jainācāryavarya Pūjya Śrī Javāharalālajī kī jīvanī: Lekhaka Śobhācandra Bhārilla, Indracandra Śāstrī, Volume 1

Front Cover
Akhila Bhāratavarshīya Sādhumārgī Jaina Saṅgha, 1968 - Jains
0 Reviews
Life and teachings of Javāharalāla, 1875-1943, Jaina religious leader from Rajasthan.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

27 other sections not shown

Common terms and phrases

अजमेर अने अनेक अपना अपनी अपने आचार्य आदि आप आपकी आपके आपने इस इस प्रकार इसी उदयपुर उनकी उनके उन्हे उपदेश उस समय उसी उसे एक ओर कई कर करके करते करना करने करने के का किन्तु किया किसी की कुछ के कारण के लिए के साथ को कोई क्या गई गए गया गये चातुर्मास चाहिए जनता जब जवाहरलालजी जा जाता जीवन जैन जो तक तथा तो त्याग था थी थे दिन दिया दी दीक्षा देने दो दोनों धर्म नही नहीं ना नी ने पधारे पर पूजाश्री पूज्यश्री के प्राप्त प्रार्थना फिर बहुत बात बाद बीकानेर भाई भी मगर महाराज महाराज ने मां मुझे मुनिश्री में में ही मैं यह या रतलाम रहा रहे रा राजकोट रारा रारात रूप वह वहां वाले विचार विहार वे व्याख्यान श्री सब सभी समाज सम्प्रदाय साधु से ही हुआ हुई हुए है और है कि है है हैं हो होते होने

Bibliographic information