Tārāpatha: Kaviśrī Panta Jī sarvaśreshṭha kavitāoṃ kā nūtana saṅgraha

Front Cover
Lokabhāratī Prakāśana, 1968 - Hindi poetry - 205 pages
0 Reviews

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

39 other sections not shown

Common terms and phrases

अधिक अन्दर अपनी अपने अब आज आत्मा इन इस इस तरह इसी ई० उनकी उर में उस उसकी उसके ओर कर करता करती करते करने कल कला कवि कवि की कविता के का कारण काव्य कि किया की की कविता कुछ के प्रति के लिए को कोमल कौन क्या क्षण गया चिर चेतना छाया छायावादी जग जन जब जल जा जाता जाने जीवन जो तक तन तुम तुम्हें तो था थी थे दृष्टि देता दो द्वार धरती नभ नव नहीं निज नील पर पल प्राण प्रिय फिर बन भर भाषा भी भू मन मानव मुझे में में एक मेरी मेरे मैं मौन यह यहाँ या युग रहा रहे रूप वह वाली विराट विश्व वे शत शब्द संसार सत्य सम्पूर्ण सा साथ सार्वभौमिक सी सुख सुमित्रानन्दन पन्त से स्वप्न स्वर स्वर्ण हम ही हुआ हुई हुए हे है और है कि है है हैं हो होता होने ह्रदय

Bibliographic information