Kavi Rāmapāṇivāda kā nāṭya sāhitya

Front Cover
Indu Prakāśana, 1993 - 357 pages
0 Reviews
Critical study of the dramatic works of Rāmapāṇivāda, ca. 1707-ca. 1775, Prakrit and Sanskrit author.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अता अन्य अपनी अपने अयोध्या आदि इस इसमें उदाहरण एक और कथावस्तु कर करके करता है करते हैं करना करने के कवि ने का प्रयोग कालिदास काव्य किन्तु किया गया है किया है किये किसी की की सूचना कुछ के द्वारा के रूप में के लिए के साथ केरल कैकेयी को गयी जगण जाता है जाती जाने जो तक तथा तो था दशरथ दो दोनों नाटक नाटक में नाम नामक नायक पर परशुराम पृ० सं० प्रकार प्रति प्रथम प्रस्तुत प्रहसन प्रहसन में प्राकृत प्राप्त बण बीबी भरत भरत मुनि भाव भी महाराज में भी यथा यह यहाँ पर या ये रस राजा को रानी राम राम के रामपाणिवाद रावण रूपक लक्ष्मण लीलावती वह वही वहीं वाराणसी विदूषक विश्वामित्र वे शिवदास संस्कृत सन्धि सभी समय समान साहित्य सीता से युक्त हास्य ही हु हुआ है हुए है और है कि है है हैं हो होता है होती होने के कारण

Bibliographic information