Śuṅgakāla meṃ dharma evaṃ kalā

Front Cover
Ajaya Prinṭarsa eṇḍa Pabliśarsa, 1996 - Art - 170 pages
0 Reviews
Chiefly on the art and sculpture of the Śuṅga dynasty, ca. 185 B.C.-ca. 73 B.C.; includes a brief introduction to the religion of the dynasty.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
1
Section 2
30
Section 3
57
Copyright

5 other sections not shown

Common terms and phrases

अंकित अधिक अनेक अन्य अपनी अपने अयोध्या अशोक आदि इतिहास इन इस इसमें इसी ईपू उनके उस उसका उसके ऊपर एवं कर करते करने कला कहा का कारण काल में किया किया गया किया है की कुछ के अनुसार के लिए के साथ को गई गया है गयी गये चुग जा जाता जैन धर्म जो तक तथ तथा तीन तो था थी थे दिया दो दोनों द्वारा धर्म के नहीं नाम नीचे ने पतंजलि पर पाली पुराण पुरुष पृ प्रकार प्रचीन बने बहुत बाद बुद्ध बोद्ध बोधगया ब्राह्मण भरहुत भाग भागवत भारत के भारतीय भी माना मुनियों में में एक में भी मौर्य यक्ष यर यह यहीं या युग ये रहा रहे है राजा राज्य रुप में लिये लेख वने वह विष्णु वे वेदिका शिव संग समय सातवाहन से स्तम्भ स्थान हाथ ही हुआ है हुई हुए हुयी है और है कि हो होता है होती होने

Bibliographic information