Aṭhārahavīṃ sadī ke jamīndāra: pūrvī Uttara Pradeśa ke sandarbha meṃ eka adhyayana

Front Cover
Pīpulsa Pabliśiṅga Hāusa, 1988 - Law - 258 pages
0 Reviews
Study on the landlords (zamindars) of eastern Uttar Pradesh during 18th century.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
1
Section 2
20
Section 3
43

7 other sections not shown

Common terms and phrases

अंग्रेजी अतिरिक्त अत्यधिक अथवा अधिक अधिकार अपना अपने अली अवध आजमगढ़ इन इलाहाबाद इस इस प्रकार इसके उठ उत्तर प्रदेश उनके उसकी उसके उसने उसे एक एकत्रित एण्ड एवं और कर दिया करके करते का कार्य कि किन्तु किया की जमींदारी कुछ कृषकों के अनुसार के कारण के जमींदारों के पश्चात के राजा के रूप में के लिए के साथ को खत खरे गया गयी गये गाजीपुर गोरखपुर जमींदार जमींदारों के जाता था जो तक तथा तो था थी थे द्वारा नर नवाब नहीं नामक ने पच पद पन पर परगना परन्तु पष्ट्र पुत्र प्रदान प्रयास प्राप्त बनारस बनारस के बस्तर भी भू-भाग भूमि मुगल मैं यर यह रहा राजपूत राजस्व राजा बलवन्त सिंह राजाओं राय रुपये रूप से लिया वह वार्षिक वाले वि वे शताब्दी में समय सरकार सिंह ने सीरियल से सो स्थिति ही हुआ हुए हेतु है हैं हो होने

Bibliographic information