Aadhe-Adhoore

Front Cover
Radhakrishna Prakashan, Sep 1, 2009 - 119 pages

जन्म: 8 जनवरी, 1925; जंडीवाली गली, अमृतसर।

शिक्षा: संस्कृत में शास्त्री, अंग्रेजी में बी.ए., संस्कृत और हिन्दी में एम.ए.।

आजीविकाः लाहौर, मुंबई, शिमला, जालंधर और दिल्ली में अध्यापन, संपादन और स्वतंत्र-लेखन।

महत्त्वपूर्ण कथाकार होने के साथ-साथ एक अप्रतिम और लोकप्रिय नाट्य-लेखक। नितांत असंभव और बेहद ईमानदार आदमी।

प्रकाशित पुस्तकें: अँधेरे बंद कमरे, अंतराल, न आने वाला कल (उपन्यास); आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस, आधे-अधूरे, पैर तले की ज़मीन (नाटक); शाकुंतल, मृच्छकटिक (अनूदित नाटक); अंडे के छिलके, अन्य एकांकी तथा बीज नाटक, रात बीतने तक तथा अन्य ध्वनि नाटक (एकांकी); क्वार्टर, पहचान, वारिस, एक घटना (कहानी-संग्रह); बक़लम खुद, परिवेश (निबन्ध); आखिरी चट्टान तक (यात्रावृत्त); एकत्र (अप्रकाशित-असंकलित रचनाएँ); बिना हाड़-मांस के आदमी (बालोपयोगी कहानी-संग्रह) तथा मोहन राकेश रचनावली (13 खंड)।

सम्मान: सर्वश्रेष्ठ नाटक और सर्वश्रेष्ठ नाटककार के संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, नेहरू फ़ेलोशिप, फि़ल्म वित्त निगम का निदेशकत्व, फि़ल्म सेंसर बोर्ड के सदस्य।

निधन: 3 दिसम्बर, 1972, नई दिल्ली।

 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Selected pages

Contents

भूमिका के बहाने
vii
निर्देशक का वक्तव्य
xvii
पात्र
23

Common terms and phrases

अन्दर अपनी अपने को अब अभी अशोक आज आता आती आदमी आप आया इस इस घर इसलिए उस उसका उसकी उसके उससे उसे एक और कर करता करती करने कह कहा कहाँ का किया किसी की की तरफ कुछ के लिए के साथ को कोई कोशिश क्या क्यों गई गया घर घर में चली चाहिए चीज़ छोटी लड़की जब जाता है जाती जाने ज़िन्दगी जैसे जो तक तरह तुम तुमने तुम्हें तू तो था थी थे देख देखती देती है दो नज़र नहीं है नाटक ने पता पर पहले पास पुरुष-एक पुरुष-चार पुरुष-तीन पुरुष-दो फिर बड़ी लड़की बता बहुत बात बाद बार बाहर बीच भी भी नहीं ममा मुझे में मेरी मेरे मैं मैंने यह यहाँ यही या रहा है रही रहे लगता है लड़का लेकर वक़्त वह सकता सब साल सावित्री से स्त्री हाथ ही हुआ हुई हूँ है और है कि हैं हो होता

About the author (2009)

आधे–अधूरे आज के जीवन के एक गहन अनुभव–खंड को मूर्त करता है । इसके लिए हिंदी के जीवंत मुहावरे को पकड़ने की सार्थक, प्रभावशाली कोशिश की गई है ।
–––इस नाटक की एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण विशेषता इसकी भाषा है । इसमें वह सामर्थ्य है जो समकालीन जीवन के तनाव को पकड़ सके । शब्दों का चयन, उनका क्रम, उनका संयोजनसबकुछ ऐसा है, जो बहुत संपूर्णता से अभिप्रेत को अभिव्यक्त करता है । लिखित शब्द की यही शक्ति और उच्चारित ध्वनि–समूह का यही बल है, जिसके कारण यह नाट्य–रचना बंद और खुले, दोनों प्रकार के मंचों पर अपना सम्मोहन बनाए रख सकी ।
–––यह नाट्यलेख, एक स्तर पर स्त्री–पुरुष के बीच के लगाव और तनाव का दस्तावेज“ है–––दूसरे स्तर पर पारिवारिक विघटन की गाथा है । एक अन्य स्तर पर यह नाट्य–रचना मानवीय संतोष के अधूरेपन का रेखांकन है । जो लोग जिं“दगी से बहुत कुछ चाहते हैं, उनकी तृप्ति अधूरी ही रहती है ।
एक ही अभिनेता द्वारा पाँच पृथक् भूमिकाएँ निभाए जाने की दिलचस्प रंगयुक्ति का सहारा इस नाटक की एक और विशेषता है ।
संक्षेप में कहें तो आधे–अधूरे समकालीन जिन्दगी का पहला सार्थक हिंदी नाटक है । इसका गठन सुदृढ़ एवं रंगोपयुक्त है । पूरे नाटक की अवधारणा के पीछे सूक्ष्म रंगचेतना निहित है ।

Bibliographic information