Anubhūtiyoṃ kī paridhi meṃ: prādhyāpaka evaṃ prācārya pariprekshya

Front Cover
Neśanala Pabliśiṅga Hāusa, 1995 - Women educators - 186 pages
0 Reviews
Autobiographical memoirs of educationist.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
24
Section 2
68
Section 3
81

7 other sections not shown

Common terms and phrases

अतिरिक्त अथवा अधिकांश अपनी अपने इन इस इसके इससे इसी उन उनका उनकी उनके उन्हें उस उसे एक एवं और कई कर करती करते हुए करना करने के कर्मचारियों का कारण कार्य काल कि किया किये किसी की के लिए के साथ के साथ-साथ क्रिया गया गयी गये छात्र जत जब जहाँ जा जाता जाती जाते जाने जीवन तक तथा तया तो था थी थे दिन दिनों दिया दिये देने दो द्वारा नहीं ने पड़ता पति पर पुन प्रकार प्रदान प्रशासन प्राचार्य प्राध्यापक प्राप्त प्राय बनाने बाद बार बी भी महाविद्यालय महाविद्यालय के मुझे में मेरा मेरी मेरे मैं मैंने यदि यह यहीं या ये रहता रहती रहते रहा रहे राजकीय महाविद्यालय रूप में रोहतक वर्ष वह वहीं वाले वित विद्यार्थियों को विद्यार्थी विभिन्न विविध विश्वविद्यालय वे व्यक्ति व्यवस्था संयोजन सभी समय से स्तर हरियाणा हिसार ही हुआ हुई हेतु है है कि हैं हो होता है होती होते

Bibliographic information