Aruṇācala kī ādī janajāti kā samājabhāshikī adhyayana

Front Cover
Vāṇī Prakāśana, 1990 - Arunāchal Pradesh (India) - 247 pages
First in the series "Gujarat gāthā", historical fiction of Gujarat.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
7
Section 2
10
Section 3
11
Copyright

11 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

अदिओ अध्ययन अन्य अपनी अपने आदि आदी जनजाति आदी भाषा आदी समाज आफ इन इनका इनकी इनके इस इसके इसी उत्पत्ति उपरिवत् उस उसका उसकी उसके उसे एक एवं ऐसी ऐसे कर करता है करती करते हैं करने का काम किया किसी भी कुछ के आधार पर के कारण के लिए के लोग के साथ केबाड को कोई गया गाँव घर जनजाति के जब जाता है जाती जीवन जो तक तथा तब तुम तो था थे दिन दिया दृष्टि से दोनों नहीं है ने नो पुरुष पृ० प्रकार प्रचलित प्रमुख बलि बी भाषा के भाषाविज्ञान भाषिक भी मिन्योड मिलो मैं मोसुप यदि यह या ये रहा है लड़की लेकिन लोग लोगों वह विशिष्ट वे व्यक्ति शिकार संबंध संरचना सकता समस्त समाज की समाज में समाजभाषिकी सामाजिक सूर्य स्तर स्थिति स्वरूप हम ही हुआ हुई हुए है और है कि है जिससे हो होता है होती होते हैं होने

Bibliographic information