Bhāratendu-yuga aura Hindī bhāshā kī vikāsa-paramparā

Front Cover
Rājakamala Prakāśana, 1975 - Hindi philology - 352 pages
On late 19th century developments in Hindi language and literature.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अंग्रेजी अधिक अनेक अपनी अपने अब इन इस इसी ई० उन उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उर्दू उसका उसकी उसके उसमें उसे एक ऐसे कर करके करते हैं करने कहा का काम किन्तु किया किसी की की भाषा कुछ के लिए के साथ केवल को कोई क्या खड़ी बोली गद्य गया है गयी जनता जब जाते जैसे जो तक तब तरह तो था थी थे दिया दिये देश दो दोनों नहीं है नाटक नाम ने पत्र पर परन्तु पहले पारिभाषिक पुरानी पुस्तक पृ० प्रकार प्रयोग प्रागे प्रादि फारसी फिर बहुत बात बाद ब्रजभाषा भारत भारतेन्दु भारतेन्दु-युग भी मिश्र में में भी यह यहाँ या युग ये रहे राजा रूप रूपों लल्लूजी लाल लिखा था लेखक लोग लोगों वह वाले वे व्यवहार शब्द शब्दों संस्कृत सब साहित्य से हम हरिश्चन्द्र हिन्दी के हिन्दी भाषा हिन्दी में हिन्दी-उर्दू ही हुआ हुई हुए है और है कि हैं हो होगा होता होने

Bibliographic information