Bhaktāmara-sandoha

Front Cover
Praj˝ā Prakāśana, 1996 - Jainism - 96 pages
0 Reviews
Critical study of Bhaktāmara of Mānatuṅga, Jaina hymns; includes Sanskrit text with Hindi translation.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

5 other sections not shown

Common terms and phrases

अदि अध्ययन अनुप्रास अनेक अन्य अपनी अपने अब अमल अर्थ अल आदि इस इसमें इसलिए उदाहरण उस उसके उसी उसे एक ओज और कर करता है करते कहते का का प्रयोग किया गया है किसी की के साथ को गजेन्द्र गुण गुणों चन्द्रमा छा जब जा जाता है जाती जाते जैन जैसे तब तव तह तुम तुमने तो दो दोनों द्वारा धर्म नहीं नाथ नाम ने पर परमेश्वर पुराण पुरुष प्रकार प्रभु के प्रयोग प्रयोग किया प्राप्त बता बना भक्ति भगवान भवतामर भवन भी मानता मृत्यु में मैं मोक्ष यक यब यम यर यल यह यहाँ या ये रहा है रा रूप लेकिन वक्रता वन वर वर्ण वह वा वाले विशेषण वे शब्द शैली सामने से स्तुति स्थान ही हुआ है हुई हुए है कि है जो हैं हो जाता है हो रहा होता है होती होते होने

Bibliographic information