Ek Plate Sailab

Front Cover
Radhakrishna Prakashan, Sep 1, 2005 - 135 pages
साहस और बेबाकबयानी के कारण मन्नू भंडारी ने हिन्दी कथा-जगत् में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। नैतिक-अनैतिक से परे यथार्थ को निर्द्वन्द्व निगाहों से देखना उनके कथ्य और उनकी कहन को हमेशा नया और आधुनिक बनाता है। मैं हार गई, तीन निगाहों की एक तस्वीर, यही सच है और त्रिशंकु संग्रहों की कहानियाँ उनकी सतत जागरूक, सक्रिय विकासशीलता को रेखांकित करती हैं। आलोचकों और पाठकों ने मन्नूजी की जिन विशेषताओं को स्वीकार किया है, वे हैं उनकी सीधी-साफ भाषा, शैली का सरल और आत्मीय अंदाज, सधा-सुथरा शिल्प और कहानी के माध्यम से जीवन के किसी स्पन्दित क्षण को पकड़ना। कहना न होगा कि इस संग्रह में शामिल सभी कहानियाँ इन विशेषताओं का निर्वाह करती हैं। एक प्लेट सैलाब, बंद दराजों के साथ, सजा, नई नौकरीदृये सभी कहानियाँ अक्सर चर्चा में रही हैं और इनमें मन्नूजी की कला निश्चय ही एक नया मोड़ लेती हैदृजटिल और गहरी सच्चाइयों के साहसपूर्ण साक्षात्कार का प्रयत्न करती है।
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Selected pages

Contents

नई नौकरी
9
बन्द दराज़ों का साथ
21
एक प्लेट सैलाब
30
कमरे कमरा और कमरे
105
ऊँचाई
114

Common terms and phrases

अतुल अपना अपनी अपने अपने को अब आई आज आया इस उस उसका उसकी उसके उसने उसे एक ऐसा और कभी कम्मो कर करके करती करने कह कहा कहीं का काम किया किसी की की ओर कुंज कुछ कुन्दन के लिए के साथ केवल को कोई क्या क्यों गई गए गया घर में चली जब जा जाता जाती जाने जैसे जो तक तब तरह तुम तुम्हें तो था कि थीं थे दिन दिया दे देखा दो दोनों नन्दन ने पर पहले पास फिर बड़ी बस बहुत बात बाद बाहर बिना बिन्नी बीच भी नहीं भीतर मन में माँ मुझे में ही मेरे मैं यह यहाँ या यों रहा था रहा है रही थी रहे लगता लगा लगी लिया ले लेकर वह वे शरद शायद शिवानी शिशिर सब समझ समय सामने सारी सारे सुषमा से स्वर हर हाथ ही हुआ हुई हुए हूँ है कि हैं हो होता

About the author (2005)

भानपुरा, मध्य प्रदेश में 3 अप्रैल, 1931 को जन्मी मन्नू भंडारी को लेखन-संस्कार पिता श्री सुखसम्पतराय से विरासत में मिला। स्नातकोत्तर के उपरान्त लेखन के साथ-साथ वर्षों दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस में हिन्दी का अध्यापन। विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में प्रेमचन्द सृजनपीठ की अध्यक्ष भी रहीं। 'आपका बंटी’ और 'महाभोज’ आपकी चर्चित औपन्यासिक कृतियाँ हैं। अन्य उपन्यास हैं 'एक इंच मुस्कान’ (राजेन्द्र यादव के साथ) तथा 'स्वामी’। ये सभी उपन्यास 'सम्पूर्ण उपन्यास’ शीर्षक से एक जिल्द में भी उपलब्ध है। कहानी संग्रह हैं : एक प्लेट सैलाब, मैं हार गई, तीन निगाहों की एक तस्वीर, यही सच है, त्रिशंकु, तथा सभी कहानियों का समग्र 'सम्पूर्ण कहानियाँ’, एक कहानी यह भी उनकी आत्मकथ्यात्मक पुस्तक है जिसे उन्होंने अपनी 'लेखकीय आत्मकथा’ कहा है। महाभोज, बिना दीवारों के घर, उजली नगरी चतुर राजा नाट्य-कृतियाँ तथा बच्चों के लिए पुस्तकों में प्रमुख हैं—आसमाता (उपन्यास), आँखों देखा झूठ, कलवा (कहानी) आदि।

Bibliographic information