Gan̐dhī nayī sadī ke lie: pratyaya evaṃ parivartana

Front Cover
Rāvata Pablikeśansa, 2000 - 260 pages
Contributed articles on the Gandhian philosophy in the modern day context.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
7
Section 2
9
Section 3
10
Copyright

11 other sections not shown

Common terms and phrases

अत अथवा अनुसार अपनी अपने अम अवधारणा अहमदाबाद अहिसा आदर्श आन्दोलन आर्थिक इन इस इसलिए इसी उत्पादन उनकी उनके उन्होंने उस उसके उसे एक एव एवं ऐसी ऐसे कर करता है करते करना करने कर्म कहा का किन्तु किया किसी की कुछ के माध्यम के रूप में के लिए केवल को क्योंकि क्रिया खादी गया गो-यी गोबी ने जब जा सकता जाता है जीवन जो तक तथा तो था थी थे दिया दृष्टि दोनों द्वारा धर्म नहीं है नैतिक नैतिकता न्याय पर परन्तु परिवर्तन प्रकार प्रकिया प्रयास प्रस्तुत प्राप्त भारत भारतीय भी मनुष्य माध्यम से माना में ही यह या राजनीति राज्य राष्ट्रवाद रूप से वह विकास विचार विचारों वे व्यक्ति व्यवस्था शक्ति सकता है सत्य सत्याग्रह सभी सभ्यता समाज समाज के साथ सामाजिक सिखों स्थान स्थिति स्पष्ट स्वदेशी स्वयं स्वराज स्वरूप स्वीकर हिसा ही हुए है और है कि हैं हो होगा होता है होती होते होने

Bibliographic information