Gems of Ramacharitmanas

Front Cover
Classical Publications : distributors, Classical Publishers and distributors, 1978 - 364 pages
0 Reviews
Descriptive index of the wise sayings in the Hindi classic epic Rāmacaritamānasa by Tulasīdāsa, 1532-1623.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Copyright

15 other sections not shown

Common terms and phrases

अति अपने अयोध्याकांड इस उक्ति है है उत्तरकांड एक ऐसा कर करते हैं करने कहते का काकभुशुण्डि ने गरुड़ काम कि किया की उक्ति है के लिए के समान कैकेयी को कोई क्या गरुड़ से कहा गुरु गोस्वामी जी की जग जल जाता जाते जी की उक्ति जीव जैसे जो ते तो दशरथ दोहा धन्य धर्म नर नहिं नहीं नहीं है नाम निज ने गरुड़ से पर परम पाप पार्वती प्रकार प्रभु प्रिय प्रेम बल बस बहुत बालकांड बिनु भरत भाई भी मन मनुष्य माया मुनि में मैं यह राजा राम की उक्ति राम ने रावण रूपी लक्ष्मण वशिष्ठ वह वाला वाले विभीषण वे वेद शरीर शिव श्री राम की संत सकल सदा सब सभी सम सीता सुख सुन्दर से कहा है सो स्वामी हनुमान हरि हित ही हुए हे है और है गोस्वामी जी हैं हो होता है होते

Bibliographic information