Granthāvalī

Front Cover
Kitāba Ghara, 1992 - Poetry - 680 pages
0 Reviews
Complete works of Sundaradāsa, 1596?-1689?, Braj saint poet; includes extensive introduction and meanings of words and phrases.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Other editions - View all

Common terms and phrases

अंग अति अथवा अनुभव अपनी अपने अब अर्थात आदि इन इस उस एक एवं ऐसी और कछु कबीर कर करके करता है करते करने करि करे कहा कहै का काल किया किया है की के कारण केलिए कै को कोई गई गए गया है गुरु घर छन्द जब जल जा जाइ जाता है जी जीवन जैसे जो ज्ञान टिप्पणी तक तत्व तब तें तो था थे दादू दिया दृष्टि देह दोहा द्वारा नहिं नहीं नाम ने पंच पर परमात्मा पाठ पुनि प्रकार प्रवेश प्रस्तुत प्राप्त बहुत बात बिना भक्ति भाव भी मन मूल में ही मैं यह यहाँ या ये योग रचना रस रहता है रहा रहै राम रूप में वह वाणी वाला वाले वे वेद वेदान्त शब्द शरीर शिव सदगुरु सब समान सांख्य सु सुख सुन्दर से सो सौ हरि हाथ ही हुआ हुए है और है कि है है हैं हो होइ होकर होता है होती होने

Bibliographic information