Gurū Nānaka Dewa Jī te saṅgīta

Front Cover
Lokgeet Parkashan, Jan 1, 2007 - Literary Criticism - 159 pages
0 Reviews
Music in the writings of Guru Nānak, 1469-1538; a study.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
4
Section 2
7
Section 3
9

4 other sections not shown

Common terms and phrases

आटि आदि आपटे आमा उठ उतम उब उम उहां कुर्ता को क्या क्व क्षडे खी गार्ड ग्रासिम घाटी जा जीउ टिम ताता टिमे टो ठ४ष्ठ ठउठा ठगा ठण्डी ठाठ ठाठब डेड भी ठे डिउ डिब्बे डी डे डेड भी ठे डेड सौ ता ताउ ताड ताता ता ताता दिति तातें ताना ताली तासां ती तुष्ट तृ।हु ठाठब डेड तृ1ड्डू तृ1हु ते ते बि तें तै दाट दादु दादु ठाठब दिउ दित दिति दिन दिस दिसि दिसे दृ दृष्ट दौ द्वाहु ऩठभ ऩठम ने पठा पत पता पाडे पृ पेठ पैठ बतठ बसी बाँध बि बिता बीडा बीडी बीता बे बै मठ मठा मां माधी मार्टा मिठ मी मुठ मैं यति या यार्ड ये राठ राठा र्डउ र्मिंप्प लली लिबिया ली ले लैब वे वें शिम ष्ठष्टी सं सांटिठ सी सुकु से सैट सो हाँ हाली ही हु हुँ हुड्डा हुप हेम है हैम

Bibliographic information