He Ram : Dinkar Granthmala

Front Cover
Lokbharti Prakashan, Jul 1, 2020 - Radio plays, Hindi - 128 pages
राष्ट्रकवि रामधारी सिंह 'दिनकर' का साहित्य के विभिन्न विधाओं में अपना एक महत्त्वपूर्ण योगदान है। रेडियो-रूपकों का यह संग्रह 'हे राम' उन्हीं में से एक है। दिनकर जी की इस पुस्तक में स्वामी विवेकानन्द, महर्षि रमण एवं महात्मा गाँधी जैसे महापुरुषों के जीवन को आधार बनाकर रूपक लिखे गए हैं। गाँधी जी पर जो रूपक दिया गया है, वह उनके जीवन के अन्तिम चार वर्षों की झाँकी प्रस्तुत करता है। वहीं स्वामी विवेकानन्द और महर्षि रमण वाले रूपक दोनों महात्माओं के सम्पूर्ण जीवन पर प्रकाश डालते हैं। इस तरह पुस्तक में इन तीनों महापुरुषों के प्रेरक जीवन की झलकियाँ तो मिलती ही हैं, उनके जीवन-दर्शन से भी हम गहरे परिचित होते हैं। रेडियो-रूपक अँधेरे में मंचित कला का ही एक अदृश्य रूप होता है जिसे भाषा, संवाद, ध्वनि, संगीत आदि उपकरणों के जरिए ही सुना-समझा जा सकता है और उनके उद्देश्यों से जुड़ा जा सकता है। ऐसे में ये रेडियो-रूपक श्रवणीय तो हैं ही, अपनी पठनीयता में भी एक मिसाल हैं। सामान्य पाठक के अतिरिक्त दिनकर-साहित्य के शोधार्थियों के लिए भी एक महत्त्वपूर्ण कृति है 'हे राम'।
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Other editions - View all

Common terms and phrases

अगर अपना अपनी अपने अब आए आदमी आप इस उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उन्होंने कहा उपवास उस उसे एक दिन और कर करना करने करो का काम किन्तु किया किसी की कुछ के लिए के साथ केवल कोई क्या गई गए गांधी जी गांधी गांधी जी ने चाहिए जब जा जी के जी को जी गांधी जी जी ने कहा जो तक तब तुम तो था थी थे थे और दिया दिल्ली दो धर्म नरेन्द्रनाथ नहीं नहीं है नाम नोआखाली पर पहले पास प्रार्थना फिर बात बार बिहार भगवान भारत भी भीतर मगर मन महर्षि मुझे मुसलमान में में भी मेरी मेरे मैं मैंने यह यहाँ या रमण रहा रही रहे रहे थे रहे हैं लगा लगे लेकिन लोग लोगों वह वे शरीर श्री रामकृष्ण सकता सभी समय से स्वामी जी हम हिन्दू ही हुआ हुई हुए हूँ है और है कि हैं हो गया होता है होने

About the author (2020)

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ राष्ट्रकवि 'दिनकर' छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओं में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति। वे संस्कृत, बांग्ला, अंग्रेजी और उर्दू के भी बड़े जानकार थे। वे 'पद्म विभूषण' की उपाधि सहित 'साहित्य अकादेमी पुरस्कार', 'भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार' आदि से सम्मानित किए गए थे।

Bibliographic information